RSS

डा. अम्बेडकर की 22 प्रतिज्ञाएँ

25 Apr
डा. बी आर अम्बेडकर द्वारा धम्म परिवर्तन के अवसर पर अनुयायियों को दिलाई गयीं  22 प्रतिज्ञाएँ

डा बी.आर. अम्बेडकर ने दीक्षा भूमि, नागपुर, भारत में ऐतिहासिक बौद्ध धर्मं में परिवर्तन के अवसर पर,14 अक्टूबर 1956 को अपने अनुयायियों के लिए 22 प्रतिज्ञाएँ निर्धारित कीं.800000 लोगों का बौद्ध धर्म में रूपांतरण ऐतिहासिक था क्योंकि यह विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक रूपांतरण था.उन्होंने इन शपथों को निर्धारित किया ताकि हिंदू धर्म के बंधनों को पूरी तरह पृथक किया जा सके.ये 22 प्रतिज्ञाएँ हिंदू मान्यताओं और पद्धतियों की जड़ों पर गहरा आघात करती हैं. ये एक सेतु के रूप में बौद्ध धर्मं की हिन्दू धर्म में व्याप्त भ्रम और विरोधाभासों से रक्षा करने में सहायक हो सकती हैं.इन प्रतिज्ञाओं से हिन्दू धर्म,जिसमें केवल हिंदुओं की ऊंची जातियों के संवर्धन के लिए मार्ग प्रशस्त किया गया, में व्याप्त अंधविश्वासों, व्यर्थ और अर्थहीन रस्मों, से धर्मान्तरित होते समय स्वतंत्र रहा जा सकता है. प्रसिद्ध 22 प्रतिज्ञाएँ निम्न हैं:

  1. मैं ब्रह्मा, विष्णु और महेश में कोई विश्वास नहीं करूँगा और न ही मैं उनकी पूजा करूँगा
  2. मैं राम और कृष्ण, जो भगवान के अवतार माने जाते हैं, में कोई आस्था नहीं रखूँगा और न ही मैं उनकी पूजा करूँगा
  3. मैं गौरी, गणपति और हिन्दुओं के अन्य देवी-देवताओं में आस्था नहीं रखूँगा और न ही मैं उनकी पूजा करूँगा.
  4. मैं भगवान के अवतार में विश्वास नहीं करता हूँ
  5. मैं यह नहीं मानता और न कभी मानूंगा कि भगवान बुद्ध विष्णु के अवतार थे. मैं इसे पागलपन और झूठा प्रचार-प्रसार मानता हूँ
  6. मैं श्रद्धा (श्राद्ध) में भाग नहीं लूँगा और न ही पिंड-दान दूँगा.
  7. मैं बुद्ध के सिद्धांतों और उपदेशों का उल्लंघन करने वाले तरीके से कार्य नहीं करूँगा
  8. मैं ब्राह्मणों द्वारा निष्पादित होने वाले किसी भी समारोह को स्वीकार नहीं करूँगा
  9. मैं मनुष्य की समानता में विश्वास करता हूँ
  10. मैं समानता स्थापित करने का प्रयास करूँगा
  11. मैं बुद्ध के आष्टांगिक मार्ग का अनुशरण करूँगा
  12. मैं बुद्ध द्वारा निर्धारित परमितों का पालन करूँगा.
  13. मैं सभी जीवित प्राणियों के प्रति दया और प्यार भरी दयालुता रखूँगा तथा उनकी रक्षा करूँगा.
  14. मैं चोरी नहीं करूँगा.
  15. मैं झूठ नहीं बोलूँगा
  16. मैं कामुक पापों को नहीं करूँगा.
  17. मैं शराब, ड्रग्स जैसे मादक पदार्थों का सेवन नहीं करूँगा.
  18. मैं महान आष्टांगिक मार्ग के पालन का प्रयास करूँगा एवं सहानुभूति और प्यार भरी दयालुता का दैनिक जीवन में अभ्यास करूँगा.
  19. मैं हिंदू धर्म का त्याग करता हूँ जो मानवता के लिए हानिकारक है और उन्नति और मानवता के विकास में बाधक है क्योंकि यह असमानता पर आधारित है, और स्व-धर्मं के रूप में बौद्ध धर्म को अपनाता हूँ
  20. मैं दृढ़ता के साथ यह विश्वास करता हूँ की बुद्ध का धम्म ही सच्चा धर्म है.
  21. मुझे विश्वास है कि मैं फिर से जन्म ले रहा हूँ (इस धर्म परिवर्तन के द्वारा).
  22. मैं गंभीरता एवं दृढ़ता के साथ घोषित करता हूँ कि मैं इसके (धर्म परिवर्तन के) बाद अपने जीवन का बुद्ध के सिद्धांतों व शिक्षाओं एवं उनके धम्म के अनुसार मार्गदर्शन करूँगा.
 

13 responses to “डा. अम्बेडकर की 22 प्रतिज्ञाएँ

  1. Dr Kuldeep Singh

    February 25, 2012 at 10:27 am

    Dr BR Ambedkar Ji was intelligent one in world.
    that is why
    He was able to found mistakes in Hindu-Darm.
    Now, we can see more partition in society. Like CaSt, Sub Cast, Gotra,. Due to this Partitions now a days peoples are not able to elect right so that CORRUPTION is increases.

    Now the day has come to leave this Darma (Hindu-Darm).

    Dr Kuldeep Singh
    Gwalior

     
  2. Manish Jambhulkar

    March 19, 2012 at 1:06 pm

    I proud i am the devotee of Baba Saheb Ambedkar

     
  3. SANJAY PATIL TIT COLLEGE (2008) me-2 BHOPAL (NEW AUTHER)

    April 21, 2012 at 3:41 am

    Hindu dharma me purane samay me bahoot si kuruti aur galat ritirivajo ka prachlan chala karta tha. Jinho ham logo ko manav hone ke bavjood bhi hamesha janvaro ke saman hi chhuachhut ki bhavna se har ek chhan hamare man ko kashta diya karate the. pata nahi kyon kabhi kabhi manav apni insaniyat ko kyon bhul jata hai. sach kahu to DR. BABA SAHEB AMBEDKER ji to manav ke roop me BHAGVAN ka avtaar hai. jinhone ham logo ko sanvidhan me adhikar dilvaye aur purani kuruti aur galat vicharo ka virodh kiya. 14 octomber 1956 hamare liye ek bahut badha din tha jis din hamare jeevan ki ek nayi shuruat hui thi. mai aaj DR. BABA SAHEB AMBEDKAR ji ko sachche man se naman karta hoo. jo sachchai me mere jeevan ke sakshat bhagvan aur ADARSHA hai. JAI BHIM.

     
  4. balwant meghwal

    September 11, 2012 at 4:51 am

    god is same facebook’s fake id and no belevied any dallit person and what work dallit ‘s god is fake only”BRAHMINVAD”’

     
  5. amit

    December 2, 2012 at 6:30 pm

    अगर इन की बात मान ली जाती तो भारत -पाकिस्तान दोस्त होते ……इतना खून न बहता

     
  6. vishwendra pratap singh

    November 28, 2013 at 4:13 am

    Bodhha darm Right

     
  7. ranjeet kumar

    December 25, 2013 at 8:06 pm

    good nightt

     
  8. Parveen chhachhia

    January 25, 2014 at 4:25 pm

    jai bhim jai bharat

     
  9. Parveen chhachhia

    January 25, 2014 at 4:33 pm

    to kaya n

     
  10. Raghvendra Ahirwar

    October 14, 2015 at 4:28 am

    Dr. B.R. Ambedkar was a great person of All World.

     
  11. jitendra

    January 5, 2016 at 12:18 pm

    only jehowa is true god

     
  12. shrawan kumar

    April 18, 2016 at 5:46 pm

    Very good jai bhim ji jay mulnibasi

     
  13. BHAGWAN SAHAY BAIRWA

    June 22, 2016 at 8:50 am

    I AM A FOLLOWER OF BABA SAHEB B.R. AMBEDKAR AND I AM ALSO FOLLOWIING THESE 22 COMMANDMENTS THANKS TO BABA SAHEB AND LORD BUDHA JAI BHIM JAI BHARAT NAMO BUDHAY BHAVTU SABB MANGLAM

     

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: